जानें आखिर क्यों साइंस फिक्शन फिल्मों में हॉलीवुड से पिछड़ रहा बॉलीवुड, हिंदी सिनेमा से निराश दर्शक

Author

Categories

Share

बॉलीवुड में हर जॉनर की फिल्में तैयार होती है।फिर चाहे वो एक्शन हो,कॉमेडी हो, ड्रामा हो, या हॉरर हो इसी लिस्ट में शामिल होती है साइंस फिक्शन फिल्में।एक समय था जब बॉलीवुड सिनेमा में भी इन तरह की फिल्मों का दबदबा था।  इतने लंबे वक्त के बाद भी आज भारतीय सिनेमा साइंस फिक्शन में अपनी पकड़ नहीं जमा पा रहा है। कई फिल्में आईं और गईं लेकिन एक भी ऐसी फिल्म नहीं आई जो दर्शकों को ‘वाह’ कहने पर मजूबर कर दे। हालांकि इस कैटेगरी में कई ऐसी फिल्में आईं जिस पर दर्शकों ने सीट पर खड़े होकर सीटी भी बजाई। लेकिन एक भी नाम ऐसा नहीं जो जेहन में घर कर जाए।ऐसे में इस फील्ड में बनी फिल्में हॉलीवुड में नाम कर रही है।जहां हिंदी दर्शक भी झक्कास कहने से अपने को नहीं रोक पाए।दरअसल इन फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा जरुरी होता है जानदार, दमदार और शानदार ग्राफिक्स। साइंस फिक्शन फिल्मों के लिए ग्राफिक्स, रीढ़ की हड्डी की तरह है। जिसके बिना व्यक्ति मरता नहीं है लेकिन जिंदा भी नहीं कहा जाता।अब ऐसे में फिल्में बनती तो हैलेकिन या तो कहानी या ग्राफिक्स में बॉलीवुड की फिल्में हॉलीवुड से मात खा जाती है। दरअसल साइंस फिक्शन एक ऐसी कैटेगरी है जिसमें स्टोरी, एक्टिंग, डायरेक्शन जैसी तमाम चीजों की भी जरुरत होती है।इसके अलावा इसका एक कारण बजट भी है। उम्दा ग्राफिक्स के लिए बड़े बजट की जरूरत होती है। ऐसे में यह एक बड़ी समस्या बन जाती है। जिसके दो नतीजे सामने आते हैं, या तो कम पैसे में सस्ते ग्राफिक्स का इस्तेमाल या फिर प्रोजेक्ट ड्रॉप।जो कि दोनों ही काफी भारी पड़ जाते है।अब यदि बॉलीवुड इन फिल्मो में जान फूंक कर काफी बजट भी लगा दे लेकिन इसके बावजूद  वो हाई इफेक्ट क्वालिटी सामने नहीं आती है जिसकी चाह होती है। ऐसे में न सिर्फ प्रोड्यूसर का पैसा खत्म होता है जबकि साथ ही बॉक्स ऑफिस पर फिल्म वैसा कमाल भी नहीं कर पाती है। जिससे प्रोड्यूसर अगली बार एक्सपेरिमेंट में भी डरता है।हॉलीवुड में इस तरह की फिल्मों में इंटरस्टेलर, द मार्शियन, ब्लेड रनर, अराइवल, एक्स मशीना, एज ऑफ टुमॉरो, ग्रेविटी, अवतार, इंसेप्शन, द मेट्रिक्स, टर्मिनेटर, द डे अर्थ स्टुड स्टिल, रोबो कॉप सहित मार्वेल सीरीज की कई फिल्में साइंस फिक्शन का बेहतरीन उदाहरण हैं।इसके अलावा बॉलीवुड में बनी 2.0, रा-वन, रोबोट, कार्बन और कृष रिलीज हुई जिनकी चर्चा तो बहुत थी लेकिन हॉलीवुड के आगे ये फिल्में कुछ नहीं है।हालांकि अब दर्शको के इंटरेस्ट को देखते हुए हॉलीवुड के बाद अब बॉलीवुड भी साइंस की राह पर चल रहा है और साइंटिस्ट्स पर फिल्म बना रहा है। बता दें कि स्पेस साइंटिस्ट नंबी नारायण पर फिल्म बनाई जा रही है जिसमें आर माधवन लीड रोल में नजर आएंगे। वहीं भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा की बायोपिक को लेकर भी सुर्खियां जारी हैं।जिसके लिए मेकर्स काफी तैयारियां कररहे है ऐसे में देखते है ये फिल्म दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब होती है या नहीं।

Author

Share